प्रधान मंत्री जी दवा माफिया को रोकिए | Prime Minister please stop medicine mafia 06

प्रिय प्रधान मंत्री जी ( Dear prime minister )

Nowadays the price of medicines is so high that poor people are unable to get treatment.
Expensive medicine
Expensive Medicine

 

प्रिय प्रधान मंत्री जी, (prime minister)

मैं आपके ध्यान में एक गंभीर चिंता का विषय लाने के लिए लिख रहा हूं जो हमारे प्रिय देश में अनगिनत नागरिकों के जीवन को गहराई से प्रभावित करता है। इसका संबंध दवाओं की अत्यधिक कीमतों से है.
हाल के दिनों में, आवश्यक दवाओं (medicine) की कीमतें आसमान छू गई हैं, जिससे उन व्यक्तियों और परिवारों पर भारी बोझ पड़ गया है जो पहले से ही आर्थिक रूप से कमजोर हैं और जीवन में संघर्ष कर रहे हैं। दैनिक वेतन भोगीएवं मजदूर। यह देखना निराशाजनक है कि कैसे दवाओं (medicine) की ऊंची कीमत हमारे नागरिकों, विशेषकर गरीब लोगों को उनकी तत्काल स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंचने से रोकने में बाधा बन गई है। हर किसी को सस्ती स्वास्थ्यसेवा का मौलिक अधिकार है, और एक समाज के रूप में इस अधिकार को बनाए रखना हमारा कर्तव्य है।दवाओं की बढ़ती कीमतों में योगदान देने वाले कारकों में से एक कुछ निजी डॉक्टरों और मेडिकल स्टोरों का लालच है, ग़रीब आदमी के पास इन दवाओं (medicine) को ऊंची कीमतों पर खरीदने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। बीमारों और कमज़ोरों पर यह अन्यायपूर्ण वृद्धि केवल अनैतिक है बल्कि निंदनीय है।

प्रधान मंत्री जी ( prime minister )

मैंआपसे विनम्रतापूर्वक इस महत्वपूर्ण मुद्दे को हल करने के लिए निर्णायक कार्रवाई करने का अनुरोध करता हूं। यह जरूरी है कि दवा ( medicine) की कीमतों को विनियमित करने और निजी डॉक्टरों, दवा की दुकानों और चिकित्सा संस्थानों द्वारा मुनाफाखोरी की अनैतिक प्रथाओं को रोकने के लिए उपाय लागू किए जाएं। ऐसा करके, हम यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आवश्यक दवाएं सभी लोग आसानी से और सही मूल्य में ले सके, जिससे उन लोगों पर वित्तीय बोझ कम हो जाएगा जो पहले से ही अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

Expensive Medicine
Expensive medicine

Expensive medicine

इसके अलावा, प्रधान मंत्री जी, ( prime minister )

मैं आपके माननीय कार्यालय से समाज के सभी वर्गों के लिए सस्ती स्वास्थ्य देखभाल को बढ़ावा देने के उद्देश्य से पहलपर विचार करने का आग्रह करता हूं। प्रधान मंत्री जी ( prime minister ), में आपको बताना चाहता हूँ मेरा एक मित्र है जो एक निजी अस्पताल के मेडिकल स्टोर विभाग में काम करता हैं, उस ने कीमतों में भारी अंतर पर प्रकाश डालाहै। जब किसी दवा का प्रिंट रेट 120 रुपये होता है तो डॉक्टर और निजी मेडिकल स्टोर, उस दवा (medicine) को सप्लायर से केवल 10 या 20 रुपये में ख़रीदते  हैं।10 या 20  रुपये में खरीदी हुई दवा (medicine) को 120 रुपयेमें बेचते हैं. ऐसे ही एक इंजेक्शन है जिसकी कीमत 500 रुपये है और उसको  2500 रुपये में बेचा जाता है।प्रधान मंत्री जी ( prime minister ) लागत से 10 से 20 गुना अधिक मुनाफा कमाते हैं।यह गरीबों का शोषण है।हर दवा (medicine) की बिक्री में यही हो रहा है.

Expensive Medicine
Expensive Medicine

Expensive Medicine


प्रधान
मंत्री जी ( prime minister )

जो लोग पहले से ही आर्थिक रूप से संघर्ष कर रहे हैं, उनके लिए यह शोषण उनकी दुर्दशा को और बढ़ा देता है, जिससेआवश्यक उपचार तक पहुंच बहुत मुश्किल हो गई है। यह चिकित्सा पेशे में नैतिक पतन का गंभीर प्रतिबिंब है। प्राइवेटमेडिकल स्टोर और प्राइवेट डॉक्टरों पर रोक लगाना बहुत जरूरी है, आजकल गरीब आदमी के लिए अपना इलाजकरवाना बहुत मुश्किल हो गया है।
प्रधान मंत्री जी ( prime minister )
स्वास्थ्य देखभाल कुछ लोगों के लिए आरक्षित वस्तु के बजाय एक बुनियादी मानव अधिकार बना रहना चाहिए। ऐसीशोषणकारी प्रथाओं को समाप्त करने के ठोस प्रयासों के माध्यम से ही हम एक स्वस्थ स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली कामार्ग प्रशस्त कर सकते हैं।
अंत में, मुझे पूरी उम्मीद है कि आपका माननीय कार्यालय लोगों की आवाज़ सुनेगा और हमारे देश में दवा(medicine) की अत्यधिक कीमतों के मुद्दे के समाधान के लिए तत्काल और प्रभावी कार्रवाई करेगा। यह सुनिश्चितकरके कि स्वास्थ्य देखभाल सभी के लिए सुलभ और सस्ती रहे, हम वास्तव में न्याय, समानता और करुणा के सिद्धांतोंको कायम रख सकते हैं जो हमारे लोकतंत्र की नींव बनाते हैं।
इस मामले पर आपका ध्यान देने के लिए धन्यवाद, और आप ज्ञान, सत्यनिष्ठा और करुणा के साथ इस देश का नेतृत्वकरना जारी रखें।
आपका बहुतबहुत धन्यवाद.

(जे हर उस देश के नागरिक की आवाज जहां दवा माफिया है)
अगर आपके देश में वी दवा माफिया है तो अपने देश के  प्रधान मंत्री जी को जे letter जरुर लिखे. हो सकता है जब हर कोई इस विष्य पर उनको लिखे कुश असर हो जाये आप सब का धन्यवाद.

60
Scroll to Top